chaitanya mahaprabhu jayanti 2022 : जानिए चैतन्य महाप्रभु की जयंती पर रोचक जानकारियां

4 Min Read

चैतन्य महाप्रभु (18 फरवरी, 1486-1534) वैष्णववाद के भक्ति योग के सर्वोच्च प्रचारक और भक्तिकाल के प्रमुख कवियों में से एक हैं। उन्होंने वैष्णवों के गौड़ीय संप्रदाय की आधारशिला रखी, भजन गायन की एक नई शैली को जन्म दिया और राजनीतिक अस्थिरता के दिनों में हिंदू-मुस्लिम एकता के सामंजस्य पर जोर दिया, उच्च जाति,और निम्न जाति, की भावना को दूर करने के लिए सिखाया। , और विलुप्त वृंदावन का पुनर्वास और अपने जीवन का अंतिम भाग वहीं बिताया। उनके द्वारा शुरू किया गया महामंत्र नाम संकीर्तन पश्चिमी दुनिया में आज भी बहुत व्यापक और सकारात्मक प्रभाव डालता है। यह भी कहा जाता है कि अगर गौरांगना होते तो वृंदावन आज तक एक मिथक होता। कई ग्रंथ लिखे गए हैं, जिनमें से मुख्य हैं श्री कृष्णदास कविराज गोस्वामी, विरचित चैतन्य चरितामृत। इसके अलावा, श्री वृंदावन दास ठाकुर चैतन्य भागवत और लोचनदास ठाकुर चैतन्य मंगल भी हैं।

chaitanya mahaprabhu jayanti

चैतन्य महाप्रभु का जन्म

चैतन्य महाप्रभु का जन्म 18 फरवरी 1486 को नवदीप पश्चिम बंगाल में हुआ और इनकी मृत्यु 1534 में पूरी उड़ीसा में हुई । उनकी पत्नी का नाम श्रीमती लक्ष्मी प्रिया देवी और विष्णु प्रिया देवी था था

उनके पिता का नाम जगन्नाथ मिश्र और माता का नाम शची देवी था। साथ ही वे बेहद सरल, सुंदर और भावुक भी थे। उनके द्वारा की गई लीलाओं को देख हर कोई दंग रह गया। निमाई बहुत ही कम उम्र में न्याय और व्याकरण में पारंगत हो गई थी। उन्होंने नादिया में एक स्कूल की स्थापना कर कुछ समय तक अध्यापन कार्य भी किया। निमाई ने बचपन से ही भगवान के चिंतन में लीन होकर राम और कृष्ण का गुणगान करना शुरू कर दिया था। 15-16 साल की उम्र में उनका विवाह लक्ष्मीप्रिया से हो गया था। सन 1505 में सांप के काटने से पत्नी की मौत हो गई। वंश चलाने की बाध्यता के कारण उनका दूसरा विवाह नवद्वीपक के राज पुरोहित सनातन की पुत्री विष्णुप्रिया से हुआ। जब वह किशोर थे तब उनके पिता का निधन हो गया था।

चैतन्य महाप्रभु की मृत्यु कैसे हुई

चैतन्य महाप्रभु को मिर्गी के दौरे पड़ते थे और इस संबंध में उनके पास कई सबूत हैं। इतिहासकारों के अनुसार चैतन्य महाप्रभु की मृत्यु 14 जून 1534 को मिर्गी के दौरे के कारण हुई थी।

चैतन्य महाप्रभु का अध्यात्म से लगाव

लोग चैतन्य को भगवान कृष्ण का अवतार मानते हैं। इसके कुछ संदर्भ प्राचीन हिंदू ग्रंथों में भी मिलते हैं। श्री गौरांग अवतार की श्रेष्ठता की व्याख्या करने वाले अनेक ग्रंथ हैं। इनमें श्री चैतन्य चरितामृत, श्री चैतन्य भागवतम्, श्री चैतन्य मंगल, अमिय निमाई चरिता और चैतन्य शातक आदि विशेष उल्लेखनीय हैं। गौरांग की स्तुति में कई महाकाव्य भी लिखे गए हैं।

उनके द्वारा लिखित कोई पाठ उपलब्ध नहीं है। केवल आठ श्लोक उपलब्ध हैं। इसे ‘शिक्षाष्टक’ कहा जाता है। लेकिन गौरांग के विचारों को श्रीकृष्ण दास ने ‘चैतन्य-चरितमृत’ में संकलित किया है।

Share This Article