जानिए घर में कछुआ पालने के फायदे।kachua palne ke fayde.

वास्तु शास्त्रजानिए घर में कछुआ पालने के फायदे।kachua palne ke fayde.

कछुआ पालने के फायदे – कछुआ शांतिप्रिय और लंबे समय तक जीवित रहने वाला शांत जीव होता है। पुराणों और अनेक धर्म ग्रंथों के अनुसार कछुआ सुख-समृद्धि देने वाला बताया गया है। फेंगशुई और धार्मिक मान्यताओं के अनुसार घर में कछुआ पालने का विशेष महत्व है कहा जाता है कि घर में कछुआ पालने से सकारात्मक ऊर्जा बनी रहती है और व्यापार संबंधी परेशानियां दूर होती है। कछुआ धन प्राप्ति का सूचक होता है यदि किसी व्यक्ति को धन संबंधी परेशानी है तो घर में कछुआ लाना चाहिए।

ऐसा माना जाता है कि कछुआ पालने से घर में लक्ष्मी जी का आगमन होता है। भगवान विष्णु ने कच्छप(कूर्म)अवतार धारण किया था अर्थात नारायण के 24 अवतारों में से एक कच्छप अवतार(कछुए का रूप) है। क्षीरसागर में समुंद्र मंथन के समय भगवान विष्णु के कच्छप अवतार ने मंदार पर्वत को अपनी पीठ पर सम्भाला था। इस समुंद्र मंथन में 14 रत्नों की प्राप्ति हुई थी।

हिंदू धर्म में कछुए को शुभ माना जाता है और कई लोगों का मानना है कि कछुआ आयु वृद्धि मे भी सहायक होता है। इस पोस्ट में हम जानेंगे कछुआ पालने के फायदे और ऐसी मान्यताएं जो विशेष रूप से कारगर है एवं लोगों में प्रचलित है। तो आइए जानते हैं कछुआ पालने के फायदे (benefits of tortoise)

कछुआ पालने के फायदे। kachua palne ke fayde.

यहां पर कुछ प्रचलित और लोगों द्वारा माने जाने वाले कछुआ पालने के फायदे बताए गए हैं जो निम्न प्रकार से है –

कछुआ सुख, समृद्धि और प्रगति का प्रतीक है।

कछुआ बिना थके निरंतर धीरे धीरे चलता रहता है इसलिए यह घर की प्रगति का प्रतीक माना गया है। इस कारण लोग पूजा पाठ करने के स्थान पर कछुए की मूर्ति रखते हैं ऐसा करने से घर में नौकरी व्यवसाय एवं अन्य कार्यों में प्रगति आती है। कछुआ धार्मिक रूप से अत्यंत शुभ माना गया है इसे घर में रखने से सुख-समृद्धि में वृद्धि होती है।

घर में कछुआ पालने के फायदे।kachua palne ke fayde.

कछुआ वास्तु शास्त्र में विशेष लाभदायक है।

वास्तु शास्त्र के अनुसार फेंगशुई कछुए को उत्तर दिशा में रखने से धन लाभ होता है और शत्रु परास्त होते हैं। कछुआ व्यवसायिक क्षेत्र में विशेष लाभदायक होता है यदि आप व्यवसाय क्षेत्र से है तो अपने ऑफिस के दरवाजे पर कछुए का चित्र लगाएं ऐसा करने से व्यापार में लाभ होता है और रुके हुए कार्य जल्दी होने लगते हैं।

घर के मुख्य दरवाजे पर कछुए का चित्र लगाने से नकारात्मक ऊर्जा दूर होती है और घर में शांति बनी रहती है। यदि घर का कोई सदस्य बीमार हो तो दक्षिण पूर्व दिशा में कछुए का चित्र लगाना चाहिए ऐसा करने से लाभ प्राप्त होता है और घर के सदस्यों की आयु लंबी होती है।

घर में सकारात्मक ऊर्जा आती है।

कछुआ धार्मिक रूप से अत्यंत सौभाग्यशाली माना जाता है। यह नकारात्मक ऊर्जा का नाश करने वाला बताया गया है जिस घर में कछुआ होता है वहां सकारात्मक ऊर्जा का प्रवाह बना रहता है। माना जाता है कि कछुआ पालने से उस घर या क्षेत्र में सकारात्मक ऊर्जा में वृद्धि होती है। इस कारण बहुत से लोगों की कछुआ पालने की इच्छा होती है।

कछुआ रखने से निसंतान दंपति को संतान की प्राप्ति होती है।

फेंगशुई और वास्तु शास्त्र की मान्यताओं के अनुसार धातु का बना हुआ ऐसा कछुआ जिसकी पीठ पर कछुए का बच्चा हो संतान प्राप्ति के लिए खास लाभदायक माना जाता है। जो दंपती संतान के सुख की कामना रखते हैं उन्हें अपने घर में ऐसा कछुआ रखना चाहिए। माना जाता है कि ऐसा करने से उस घर में जल्द ही बच्चे की किलकारियां सुनाई देती है।

जानिए घर में कछुआ पालने के फायदे।kachua palne ke fayde.
Turtle, कछुआ

नजर दोष और बीमारियां दूर होती है।

कछुए को घर में रखने से किसी की बुरी नजर नहीं लगती और बीमारियां दूर होती है। घर में कछुआ रखने से वातावरण और घर शुद्ध व स्वच्छ बना रहता है इससे बीमारियां दूर होती हैं। माना जाता है कि कछुआ नजर दोष को खत्म कर देता है इसलिए नजर दोष के निवारण के लिए घर में कछुआ अवश्य रखें।

कछुआ से धन प्राप्ति

ऐसा कहा जाता है कि जहां कछुआ रखा जाता है वहां लक्ष्मी का आगमन होता है अधिकतर मान्यताओं के अनुसार कछुआ से धन प्राप्ति होती है। माना जाता है कि कछुआ रखने से धन की प्राप्ति होती है और घर में माता लक्ष्मी का आगमन होता है इसलिए जिसे धन संबंधी परेशानियां हैं उसे कछुआ रखना चाहिए। धन संबंधी परेशानियों के लिए क्रिस्टल वाला कछुआ ला सकते हैं। घर में पीतल का कछुआ रखने से फायदा मिलता है।

घर में पीतल का कछुआ रखने से व्यापार में धन लाभ और सफलता मिलती है। घर में धातु का कछुआ चांदी तांबा पीतल या अष्टधातु से निर्मित लगाना शुभ माना जाता है।

यह थे कछुआ पालने के फायदे या घर में कछुआ रखने के फायदे हम आशा करते हैं कि आपको यह पोस्ट पसंद आई होगी धन्यवाद।

यह पढे – टिटहरी पेड़ पर क्यों नहीं बैठती है