गणगौर की कहानी। gangaur ki kahani(katha).

0
गणगौर की कहानी - एक बार राजा ने जौ और चने बोये,और माली ने अपने घर मे दूब बोयी । राजा के जौ चने बढ़ते गए और माली की दूब घटती गई । एक दिन माली ने सोचा कि क्या बात है ? राजा के जौ चने तो बढ़ते जा रहे हैं और मेरी दूब क्यों घटती जा रही है । एक दिन माली छुपकर बैठ गया और देखने लगा कि क्या कारण है ? तब माली ने देखा कि कुंवारी लड़कियां आई और दूब तोड़कर ले गई तब माली उनके कपड़े छीनने लगा । और पूछने लगा कि तुम दूब क्यों ले जा रही हो ?

बुध प्रदोष व्रत कथा : Budh pradosh Vrat Katha in hindi

0
यह व्रत हिंदु तिथि के अनुसार तेरहवें दिन यानी त्रयोदशी को होता है त्रयोदशी अथवा प्रदोष व्रत हर महीने में दो बार आता है-...

gangaur 2022 : जानिए क्यों मनाया जाता है गणगौर का त्यौहार, गणगौर पूजा विधि...

0
गणगौर, राजस्थान का एक त्योहार है, जो चैत्र महीने के शुक्ल पक्ष के तीसरे दिन (तीज) को आता है। इस दिन अविवाहित...

शुक्र प्रदोष व्रत कथा ,Shukra Pradosh Katha in hindi

0
एकादशी की तरह ही वर्ष में 24 प्रदोष व्रत होते हैं , जो भी प्रदोष जिस वार को आता है उसका विशेष फल होता...

गुरु प्रदोष व्रत कथा : guru pradosh vrat katha in hindi

0
गुरुवार के दिन पड़ने वाले प्रदोष व्रत को गुरु प्रदोष व्रत कहा जाता है। हर दिन आने वाले प्रदोष व्रत का अलग-अलग महत्व होता...

Rangbhari Ekadashi vart Katha , रंगभरी तथा आमलकी एकादशी व्रत कथा

0
रंगभरी एकादशी को फाल्गुन शुक्ल पक्ष की एकादशी कहा जाता है। इसे आमलकी एकादशी व्रत कहते हैं। रंगभरी एकादशी के दिन भगवान विष्णु की...

मंगल भौम प्रदोष व्रत कथा , Mangal Pradosh Vrat Katha in hindi

0
जो प्रदोष व्रत मंगलवार के दिन पड़ता है वो भौम प्रदोष व्रत या मंगल प्रदोष व्रत कहलाता है। इस व्रत को रखने से भक्तों...

Mahashivratri vart khata in hindi , शिवरात्रि व्रत कहानी

0
महाशिवरात्रि के दिन भक्त जप, तप और व्रत करते हैं तथा महाशिवरात्रि की कहानी सुनते हैं। महाशिवरात्रि का व्रत फाल्गुन कृष्ण त्रयोदशी को होता...

जानिए माघी पूर्णिमा का महत्व, पूजा विधि और व्रत कथा

0
" माघ पूर्णिमा व्रत या माघी पूर्णिमा हिन्दू पंचांग के अनुसार माघ मास की पूर्णिमा तिथि को मनाया जाता हैं । 27 नक्षत्रो में...

sankashti Ganesh Chaturthi 2022 : पूजा विधि, व्रत कथा और कहानी

0
संकष्टी चतुर्थी 2022 तिथि: संकष्टी चतुर्थी का अर्थ है संकट को हराने वाली चतुर्थी। भगवान गणेश अपने भक्तों के सभी कष्ट हर लेते हैं,...