Goga navami : जानिए गोगा नवमी की कथा व पूजन विधि ।goga navami ki...

0
गोगा नवमी की कथा : राजस्थान के वीर महापुरुष गोगा जी महाराज का जन्म गुरु गोरखनाथ जी के आशीर्वाद से हुआ था। गोगा देव जी की मां बाछल देवी निसंतान थी उन्होंने संतान प्राप्ति के लिए कई यत्न किए परंतु सभी यत्न करने के पश्चात भी संतान सुख नहीं मिला।

world population day in hindi.

0
world population day in hindi -  विश्व जनसंख्या दिवस मनाने की शुरुआत 1990 मे हुई। पिछली सदी में दुनिया की बढ़ती जनसंख्या बहुत से विचारकों और सरकारों की चिंता का कारण बनी रही । यह चिंता इक्कीसवीं सदी में भी साथ आ गई है । ।। जुलाई 1987 को पचास करोड़ की वृद्धि का दिन मनाया गया ।

पाबूजी राठौड़, हिंदू और मुस्लिम दोनों के द्वारा है पूजनीय

0
पाबूजी राठौड़ राजस्थान के पंच पिरों में से एक है, इन्हें हिंदू और मुस्लिम दोनों पूजते हैं। इन्हें लक्ष्मण का अवतार भी माना जाता है।पाबूजी का जन्म कोलू मंड फलोदी जोधपुर में 1239 ईस्वी में हुआ था। इनके पिता का नाम दान देव जी राठौड़ तथा माता कमला दे थी। इनकी पत्नी का नाम सुप्यार दे था। पाबूजी की पूजा मैहर मुस्लिम करते हैं तथा इनकी मंदिर का पुजारी राठौड़ वंश का होता है।

जानिए खूबसूरत किशनगढ़ डंपिंग यार्ड के बारे में। kishangarh dumping yard.

0
किशनगढ़ डंपिंग यार्ड(kishangarh dumping yard) राजस्थान के अजमेर जिले के किशनगढ़ शहर में स्थित है। किशनगढ़ डंपिंग यार्ड अपनी सुंदरता और मनोरम दृश्य के...

नल दमयंती की कहानी (नल दमयंती की कथा)। nal damyanti ki kahani(katha).

0
नल दमयंती की कथा: निषध देश में वीरसेन के पुत्र नल नाम के एक राजा हो चुके हैं । वे बड़े गुणवान् , परम सुन्दर , सत्यवादी , जितेन्द्रिय , सबके प्रिय , वेदज्ञ एवं ब्राह्मणभक्त थे । उनकी सेना बहुत बड़ी थी । वे स्वयं अस्त्रविद्या में बहुत निपुण थे । वे वीर , योद्धा , उदार और प्रबल पराक्रमी भी थे । उन्हें जूआ खेलने का भी कुछ - कुछ शौक था । उन्हीं दिनों विदर्भ देश में भीम नामके एक राजा राज्य करते थे । वे भी नल के समान ही सर्वगुण सम्पन्न और पराक्रमी थे । उन्होंने दमन ऋषि को प्रसन्न करके उनके वरदान से चार संतानें प्राप्त की थीं — तीन पुत्र और एक कन्या । पुत्रों के नाम थे - दम , दान्त और दमन । पुत्री का नाम था - दमयन्ती । दमयन्ती लक्ष्मी के समान रूपवती थी । उसके नेत्र विशाल थे । देवताओं और यक्षों में भी वैसी सुन्दरी कन्या कहीं देखने में नहीं आती थी । उन दिनों कितने ही लोग विदर्भ से निषध देश में आते और राजा नलके सामने दमयन्ती के रूप और गुण का बखान करते । निषध देश से विदर्भ में जाने वाले भी दमयन्ती के सामने राजा नल के रूप , गुण और पवित्र चरित्र का वर्णन करते

सोमवती अमावस की कथा। somvati amavasya ki katha सोमवती अमावस की कहानी।

0
सोमवार को आने वाली अमावस को सोमवती अमावस कहते हैं। इस दिन सोमवती अमावस की कहानी। (somvati amavasya ki kahani) सुनी जाती है। सोमवती...

राजा हम्मीर की शरणागत रक्षा। राजा हम्मीर देव चौहान की कहानी। Raja Hammir dev...

0
राजा हम्मीर देव रणथंभौर के चौहान वंश के सबसे शक्तिशाली और महत्वपूर्ण शासक थे। इन्हें हठी हमीर के नाम से भी जाना जाता है।...

अमेरिकन नर्सेज ऑन ए मिशन टू इंडिया’ (American nurses on a mission to India)....

0
भारत में कोरोना के कारण जैसे ही सामूहिक अंतिम संस्कार की खबरें सामने आई तो अमेरिका में नर्सों के एक समूह ने भारत आकर...

Hindi kahani. चित्तौड़ के राजकुमार चंदा की कहानी। हिन्दी कहानी।

0
चित्तौड़ के बड़े राजकुमार चन्दा शिकार खेलने निकले थे । अपने साथियों के साथ वे दूर निकल गये थे । उन्होंने उस दिन श्रीनाथद्वारे...

पौराणिक कहानियां । mythology story in hindi

0
यहां कुछ विद्वान लेखकों द्वारा लिखित पौराणिक कहानियां । (mythology story in hindi) संकलित की गई है। हमें आशा है कि पाठक इससे विशेष...