100+ हिन्दी मुहावरे।. muhavre in hindi.

Hindi muhavare100+ हिन्दी मुहावरे।. muhavre in hindi.

1. अक्ल पत्थर पड़ना –

बुद्धि नष्ट होना।

प्रयोग – राकेश ने कहा , ” क्या करूँ , मेरी अक्ल पर पत्थर पड़ गये , जो मैंने इस आवारा से पुत्री का विवाह कर दिया ।

100+ हिन्दी मुहावरे।. muhavre in hindi.

” 2. आँखों का तारा होना-

बहुत प्यारा होना ।

प्रयोग – मोहन ने कहा कि मेरे तो चारों पुत्र ही आँखों के तारे हैं , किसी को भी छोड़ते हुए बनता ।

3. ईंट से ईंट बजाना –

नष्ट – भ्रष्ट कर देना ।

प्रयोग – राम की सेना ने रावण की ईंट से ईंट बजा दी ।

4. ईद का चाँद होना –

बहुत दिनों पश्चात् दिखाई देना ।

प्रयोग – हरीश विवाह के पश्चात् घर से बाहर कम ही निकलता है । आजकल तो वह ‘ ईद ‘ हो रहा है ।

5. खून – पसीना एक करना

कठिन परिश्रम करना ।

प्रयोग – मोहन ने परीक्षा की तैयारी में खून – पसीना एक कर दिया ।

6. गले का हार होना

बहुत प्यारा होना ।

प्रयोग – रीता ने सीता से कहा कि मेरा पुत्र तो मेरे गले का हार है ।

7. गाँठ बाँधना

अच्छी तरह स्मरण रखना ।

प्रयोग मेरी यह सीख अच्छी तरह गाँठ बाँध लो , समय पर काम आयेगी ।

8. घड़ों पानी पड़ जाना —

बहुत लज्जित होना ।

प्रयोग– अध्यापक के प्रश्न का ठीक उत्तर न देने पर सुरेश पर घड़ों पानी पड़ गया

9.चेहरे हवाइयाँ उड़ना –

भयभीत होना ।

प्रयोग – मार्ग में बंदूकधारियों को देखते ही मेरे चेहरे पर हवाइयाँ उड़ने लगीं ।

10. दाँत खट्टे करना –

हराना ।

प्रयोग – चौसा के मैदान में शेरशाह ने हुमायूँ के दाँत खट्टे कर दिये ।

11. दाँतों तले उँगली दबाना –

आश्चर्य प्रकट करना ।

प्रयोग – भारतीयों की वीरता देखकर पाकिस्तानी सैनिकों ने दाँतों तले उंगली दबा ली ।

12. नाकों चने चबाना

परेशान कर देना ।

13. फूला न समाना –

खूब प्रसन्न होना ।

प्रयोग 1 – शिवाजी ने बार – बार आक्रमण करके औरंगजेब को नाकों चने चबवा दिये ।

प्रयोग 2- शीला को पिताजी ने हीरों का हार दिया जिसे पाकर वह फूली न समाई ।

14. राई का पहाड़ बनाना –

छोटी बात को बढ़ा – चढ़ाकर कहना ।

प्रयोग – तुम अपनी बात को जल्दी समाप्त करो , राई का पहाड़ मत बनाओ

15. लाल – पीला होना –

गुस्से मे भरना

प्रयोग- अपने ऊपर झूठा आरोप लगते देखकर रमेश लाल – पीला होने लगा

16. आसमान से बातें करना

ऊँची कल्पना करना ।

प्रयोग-ऐफ़िल टावर के ऊपर चढ़ कर ऐसा लगता है मानों हम आकाश से बातें कर रहे हों। 

17. उल्लू सीधा करना-

स्वार्थ सिद्ध करना ।

प्रयोग -रमेश को अच्छा व बुरे से क्या लेना देना वह तो बस अपना उल्लू सीधा करता है ।

18. कीचड़ उछालना –

नीचता दिखाना , कलंक लगाना ।

प्रायोग -रामबाबू पर चोरी का इल्जाम लगा कर उसके बॉस ने कीचड़ उछाल दिया ।

19. चिकना घड़ा –

जिस पर कोई असर न हो ।

प्रयोग – तुम ऐसा चिकना घड़ा हो तुम्हारे ऊपर कहने सुनने का कोई असर नहीं पड़ता।

20. छाती पर मूंग दलना –

अत्यधिक परेशान करना ।

प्रयोग – मेरा किरायदार तो मेरी छाती पर मूँग दल रहा है, न मकान खाली कर रहा है न ही किराया दे रहा है। 

21. छाती पर साँप लौटना –

अत्यधिक ईर्ष्या करना ।

प्रयोग – भारत के वैज्ञानिकों का मंगल मिशन सफलता पूर्वक पूर्ण होने पर शत्रुओं की छाती पर साँप लोट गया।

22. जीती मक्खी निगलना –

जान – बूझकर बेईमानी करना

प्रयोग – युवा पीढ़ी को नशे की लत का परिणाम पता होते हुए भी वह जीती मक्खी निगल लेते हैं।

23. थूककर चाटना –

बात कहकर बदल जाना ।

प्रयोग – कभी तो अपनी जबान पूरी किया करो, सदा ही तुम थूक कर चाट लेते हो।

24. दाई से पेट छिपाना –

परिचित से रहस्य छिपाये रखना

प्रयोग – मैं पंकज की हरकत जानता हूँ, फिर भी वह दाई से पेट छिपा रहा था।

25. नौ – दो ग्यारह होना –

भाग जाना ।

प्रयोग – अध्यापक को देखते ही कक्षा ना लगाने की मंशा से बाहर खड़े बच्चे नौ दो ग्यारह हो गए।

26. बीड़ा उठाना –

उत्तरदायित्व सम्भालना ।

प्रयोग – स्वामी विवेकानंद, राजा राममोहन राय जैसी बड़ी-बड़ी हस्तियों ने समाज में महिलाओं की स्थिति को सुधारने का बीड़ा उठाया था।

27. मुँह की खाना –

हार मानना ।

प्रयोग -जब जब पाकिस्तान ने भारत पर हमला बोला है तब तब उसे मुंह की खानी पडी ।

28. सूरज को दीपक दिखना

अत्यन्त प्रसिद्ध व्यक्ति का परिचय देना ।

प्रयोग – धनुर्धर अर्जुन के बारे में कुछ कहना सूरज को दीपक दिखाने वाली बात है।

29. होम करते हाथ जलना –

भला करते समय भला करने वाले का बुरा होना

प्रयोग – श्याम ने भलाई का काम किया तो लोगो ने बुरा कहा

30. हवा से बातें करना-

बहुत तेज दौड़ना ।

प्रयोग – आजकल तो आर्मी की नोकरी पाने के लिए हावा से बाते करना पडता है ।

31. कोढ़ में खाज होना –

कष्ट में और अधिक कष्ट मिलना ।

प्रयोग – रामू को तो कोढ़ में खाज हो गई है- पहले वह फेल हो गया, फिर बीमार पड़ गया।

32. आँखों में टेसू फूलना –

खुशी के आँसू आना ।

प्रयोग – ग़रीब घर मे भाई नोकरी लगने पर पापा की आँखो मे खुशी के आंसू आ गये

33. चुपड़ी और दो – दो –

सब ओर से लाभ होना ।

प्रयोग – गांव के सभी लोगों के मिश्रीलाल की प्रशंसा करते हैं क्योंकि उनकी खेती तो फल – फूल रही ही है दोनों बेटे भी उच्च पद पर कार्यरत हैं। इसे कहते हैं चुपड़ी और दो – दो।

34. नाक का बाल होना-

किसी से ज्यादा निकट होना

प्रयोग – आजकल तो श्यामलाल सेठजी की नाक का बाल बना हुआ है उसे ऐसा वैसा मत कह देना ।

35. बाँछे खिलना –

खूब लाभ मिलने से प्रसन्न होना ।

प्रयोग – हमारे घर में नन्हा मेहमान आया, तो हमारी बांछें खिल गई।

36. आँख बदलना –

अवसर देखकर व्यवहार करना ।

प्रयोग -मेरे पिता के मरने के बाद मेरे भाई ने अपनी आँखें बदल ली।

37. पौ बारह होना-

सब तरफ से लाभ मिलना ।

प्रयोग – कोरोना काल मे गाव के ‌‌‌दुकानदारो के पौ बाहर हो गए ।

38. आकाश – पाताल एक करना-

कठिन प्रयत्न करना ।

प्रयोग– दीपक ने इस बार परीक्षा में प्रथम आने के लिए आकाश पाताल एक कर दिया है।

39. आस्तीन का साँप –

धोखेवाज ।

प्रयोग -मैंने कभी सोचा भी नहीं था कि सुरेश भी आस्तीन का सांप निकलेगा।

40. चिकना घड़ा –

जिस पर कोई असर न हो ।

प्रयोग – तुम ऐसा चिकना घड़ा हो तुम्हारे ऊपर कहने सुनने का कोई असर नहीं पड़ता।

41. सब धान बाइस पंसेरी –

अच्छे और बुरे काम को समान समझना ।

प्रयोग – तुम तो न बड़ा देखते हो न छोटा सबसे बहस करने लगते हो, तुम सबको सब धान बाईस पसेरी जैसा समझते हो क्या ?

42. लहू का घूँट पीना –

अपमान सहन करना ।

प्रयोग – अगर एक हफ्ते तक पैसे नहीं लौट आए तो मैं तुम्हारी जमीन बेच दूँगा। यह सुनकर, रामधन लहू का घूँट पीकर रह गया।

43. एड़ी – चोटी का पसीना एक करना –

शक्ति भर कार्य करना ।

प्रयोग:- मोहन को सोहन ने कहा कि तुम कितनी भी एड़ी चोटी का पसीना एक कर लो तुम कभी भी सरकारी नौकरी प्राप्त नहीं कर पाओगे

44. न ऊधो का लेना न माधो का देना –

किसी से कोई मतलब नहीं ।

प्रयोग – शास्त्रीजी तो सिर्फ पढ़ाने से मतलब रखते हैं – ‘न ऊधो का लेना, न माधो का देना’।

46. आसमान से गिरना –

एकदम अवनति होना ।

प्रयोग – राजप्रताब ने काम ही ऐसा किया है की आसमान से गिरा है ।

45. अन्धे के हाथ बटेर लगना –

अयोग्य व्यक्ति को मूल्यवान वस्तु मिलना

प्रयोग – रामू मात्र आठवीं पास हैं, फिर भी उसकी सरकारी नौकरी लग गई। इसी को कहते हैं- अंधे के हाथ बटेर लगना।

47. आगा – पीछा करना –

सोच – विचार में पड़कर हिचकिचाना

प्रयोग -दीन दुखियों की सहायता करने में आगा पीछा नहीं करना चाहिए

48. चीटी के पर लगना-

घमण्ड करना ।

प्रयोग – जबसे सन्नी विदेश से पढ़ कर आया है, उसके तो पंख लग गए हैं।

49. हवाई किले बनाना

कोरी कल्पना करना

प्रयोग – भाई कुछ काम धाम भी कर लिया कर केवल हवाई किला बनाने से कुछ लाभ नही होगा ।

50. आसमान से टपका खजूर पर लटका

समस्या के उपर समस्या ।

प्रयोग – बेचारे संजय ने विदेश की नौकरी छोड़ कर बंगलोर में नौकरी शुरू की लेकिन वहाँ भी कंपनी बंद हो गई – आसमान से गिरे, खजूरप्रयोग – बेचारे संजय ने विदेश की नौकरी छोड़ कर बंगलोर में नौकरी शुरू की लेकिन वहाँ भी कंपनी बंद हो गई – आसमान से गिरे, खजूर